कोरिया ज़िले के वैबसाइट मे आपका स्वागत है।
हिन्दी | English

कोरिया - एक झलक

नागरिक सेवायें

भारत सरकार की महत्वपूर्ण सेवायें

NIC EMAIL

संस्कृति

सामुदायिक नृत्य

कोरिया ज़िले अलग अलग त्यौहारो मे मुख्यता तीन सामुदायिक नृत्य एवं कार्यक्रम मनाये जाते है:
1. कर्मा 
2. सैला  
3. सुआ

त्यौहार

 

 भारत के मुख्य त्यौहार जैसे दिवाली, दशहरा, होली आदि  कोरिया ज़िले भी मे मनाये जाते है। कुछ महत्वपूर्व त्यौहार भी कोरियन समुदाय मे खास महत्व है। वे है-:
1.गंगा दशहरा   
2. छेरता 
3. नवाखाई   
4. सरहुल

 

औपनिवेशीकरण

 

कोरिया के मूल निवासी संभवता कोल  गोंड और भुईन्हार(पाण्डो) है। सभी अन्य समुदाय बाहर से आए है कोरिया मे अभी भी बाहर से आना ज़री है ये प्रवासियों हैं: -
इन प्रवासियों हैं: -
1. चेरवा
2. राजवाड़े
3. साहू
4. अहीर
5. ग्वालस
6. उरांव
7.गड़रिया
8.कोईर
9. बारगाह
10. बसोद
11. मुस्लिम परिवार
12. कहार 
13.कुनबी
14.केवट
15. गुप्ता
16. जायसवाल
17. अनुसूचित जाति
18. अग्रवाल
19.जैन आदि

 

 

शिकार करना

भुईनहार(पंडो) गोंड और चेरवास पारंपरिक शिकारी थे लेकिन अब सरकार के द्वारा शिकार पूरी तरह से प्रतिबंध लग गया

 

 

कर्मा नृत्य

 

Dances

कर्मा त्योहार भाद्रपद-शुक्लपक्ष एकादशी को मनाया जाता है। यह त्यौहार खरीफ के कृषि पूरी होने के बाद आता है। यह सभी कोरियन के प्रमुख त्योहारो मे से एक
है कृषि के संचालन के पूरा होने के बाद, समुदाय "कर्म देव" की  फसल की अधिक उपज के लिए प्रार्थना करता है। यह भी कठिन परिश्रम वे कृषि कार्यों के माध्यम से किया है के बाद एक उत्सव का प्रतीक है। नवयुवक लड़के और लड़कियां उपवास रहती है  और शाम में "करम ट्री" की एक शाखा को लाते है और अपने समुदाय के मुखिया के घर के आँगन में लगाते है। जावा और गेहूं कुछ दिन पहले अंकुरित हो जाता है और उनके छोटे पौधों को एक छोटे से बांस की टोकरी में डाल दिया जाता है और करम पेड़ की शाखा के नीचे रख दिया जाता है। यह शाखा करम देव का प्रतीक होता है। एक दीपक जला कर  करम देव के नीचे रखा जाता है।

Top

 

 

सैला नृत्य

 

 

अगहन के महीने में, ग्रामीणों सैला नृत्य प्रदर्शन करने के लिए आसपास के गांवों के लिए जाते है। डाल्टन के अनुसार, यह द्रविड़ समुदाय का एक नृत्य है। सैला नर्तकियों के समूह , सैला नर्तकियों के मेढा प्रत्येक घर के लिये जाते है और नृत्य करते है। वे अपने हाथ मे लिये छोटी छड़ी से बगल  मे  व्यक्ति के पकड़े हुये छड़ी को मारते है वे  एक बार गोले मे दक्षिणावर्त  और  बाद मे वामावर्त
धूमते हुये नृत्य करते है ।  "मंदार" नर्तकियों को ताल देता है। जब ताल तेजी से हो जाता है, तब नर्तक भी तेजी से चलते हुये नृत्य करते हैं।छड़ी ऊपर जाते हुये दूसरे छड़ी से और फिर नीचे जाते हुये दूसरे छड़ी से टकराया जाता है।

 

Top

 

 

सुआ नृत्य

 

Dances

यह मूल रूप से महिलाओं का एक लोक  नृत्य है। सैला की तरह, महिलाओं को एक ही प्रकार की छोटे छड़ी का उपयोग किया जाता है और ध्यान रखा जाता है  की छड़ी नीचे की ओर न जाने पाये । वे एक  गोले मे नृत्य और गाते हुये चलते हैं। चावल रखे बर्तन मे कुछ लकड़ी के बने तोतो बर्तन केंद्र में रखा जाता है।

 

Top

 

 

 

गंगा दशहरा

 

Dances

गंगा दशहरा भीम सेनी एकादशी को मनाया जाता है।  इस लोक नृत्य मे   पुरुष, महिलाये, लड़कों और लड़कियों  साथ मे  नृत्य करते है और रोमांटिक गाना गाते है । शराब  के साथ इस नृत्य को और उत्साह  एवं उमंग प्रदान करता है। यह विशेष रूप से आनन्द का त्योहार है।

 

Top

 

 

छेरता नृत्य

 

 

यह पूर्णिमा (पूर्ण चंद्रमा दिन) पौष महीने में मनाया जाता है। साल की इस अवधि में, कृषक फसल काटते और कृषि उत्पादित फसल को घर लाते है। हर परिवार को अपनी वित्तीय स्थिति के अनुसार एक शानदार मध्याह्न भोजन करता है। बच्चे गांव में बाहर जाते और हर घर से चावल इकट्ठा करते है। शाम में, गांव के युवा नौकरानियों गांव की टंकी के पास या नदी या छोटी नदी के किनारे पर एकत्र होकर खाना पकाते और फिर वे एक सामुदायिक  दावत देते है। चर्ता सभीसमुदाय के द्वारा मनाया जाता है। यह त्योहार मुख्यता  फसल  के उपज के लिए मनाया जाता है।

 

 

Top

 

 

नवाखाई

 

 

यह त्यौहार सभी समुदायों के किसानों द्वारा मनाया जाता है। जब धान फसल शुरू होता है,  तब नए चावल को नवमी पर कुटुंब देवी/देवता  को समर्पित कर विजय दशमी मनाया जाता  है। यह एक धार्मिक समारोह है और इस के बाद कुटुंब "प्रसाद" लेता है। इसके बाद कुटुंब के चावल उपयोग मे लेना शुरू होता है। शाम में कुछ समुदायों नृत्य करते और शराब लेते है

 

 

Top

 

 

 

सरहुल

 

 

यह त्यौहार जब साल के पेड़ पर फूल से शुरू होता तब  मनाया जाता है, केवल कुछ समुदाय इस त्योहार को मनाते हैं। पृथ्वी माँ की इस दिन पूजा की जाती है। खेतों में हल या पृथ्वी की खुदाई के किसी भी रूप का मना होता है। ग्रामीणों  गांव "सरना" (गांव के भीतर वन के एक छोटे पैच) जाते और और वहाँ पूजा करते। उरांव समुदाय के लोग धरती माता की  सूर्य देवता के साथ शादी का जश्न मनाते है

 

 

 

Settlements

 

चेरवा

 

सबसे पुराने प्रवासियों मे पलामू के चेरोस थे जो कोरिया में चेरवास के रूप में जाने जाते है। उनके परिवार के बुजुगों के अनुसार, वे कुछ चार सौ साल पहले आए थे। कुछ चेरवास पलामू से चले गए थे और चंगभकर में बस गए और बाद में कोरिया आते गए। वे धीरे-धीरे पूरे जिले मे बस गए और ज्यादातर  गाँव वासियो ने अपने अपने समुदाय बना लिए थे । बैगा या गांव पुजारी उनके समुदाय से था। वे गांव जिनमे एक भी पुजारी नहीं थे, उन्होने  विश्वस्त चेरवा परिवारों को गाँव मे बसाया ताकि उन्हे बैगा लोगो की सेवाए मिल सके
। मिलनसार और उपयोगी उनके समुदायो के सदस्यों का सभी गांवों में स्वागत किया गया। इस प्रकार चेरवा समुदाय  जिला भर में फैल गया। वे शासक परिवार के साथ जुड़े रहे और उनके संरक्षण मे थे। इससे उनकेने आर्थिक विकास  को भी  बल मिला।

 

 

Back

 

 

राजवाड़े

 

वे अपने अतीत के इतिहास पर कोई प्रकाश डालने में सक्षम नहीं हैं। वे कोरिया राज्य में एक जमींदारी  प्रथा जिसे  गुगरा के नाम से जाना जाता  है बारह  पीढ़ियों तक अपने  वंशजो के नक्शे कदम पर चले।इसलिए यह माना जा सकता है कि वे यहाँ बारह पीढ़ियों से अधिक समय से यहाँ है । शायद वे दो से दो सौ पचास साल पहले यहाँ आए ।  वे पहले सरगुजा में  बसे और कुछ समय बाद वे कोरिया आ गये । कोरिया ज़िले के शासक परिवार के करीब होने के वजह से उन्हे सहूलियत दी गयी की वे कही भी बस जाये। प्रारम्भतः वे राजधानी के निकट बसे और राजधानी के साथ  स्थान बदले गये। जब उनकी जनसंख्या में वृद्धि हुई है वे जंगलों काटे औरर नई बस्तियों का विकास कर वहाँ बस गये। बुद्धिमान और कड़ी मेहनत की वजह से वे स्थानीय लोगों की तुलना में अधिक संपन्न हो गये। उनके प्रारम्भिक उपनिवेश खरबेट, ओदगी, बिशनपुरr, जमपरा, बर्दिया, कूदेतीi, काठगोड़ी,गुर्गा, लतमा, सरडी, कसरा, बदर आदि में थे

 

Back

 

अहिर और ग्वाले

 

राज्य में जनसंख्या में उनके प्रतिशत कमहै उनका प्रवास  उन्नीसवीं सदी में शुरू हुआ है चाहिए। उनके अनुसार वे ज्यादातर सिंगरौली से है और कुछ  सरगुजा से है।

 

 

साहू

 

उनके परिवार के बुजुर्गो  के अनुसार, वे उन्नीसवीं सदी के अंतिम दशक में सीधी जिले के वैधान और सिंगरौली  से आये हैं। मूलतः बैकुंठपुर, शादीखार्बेट, तलवापारा आदि बस गये थे

 

उरांव

 

वे मूलतः छोटानागपुर के हैं। अपने बुजुर्गों के अनुसार उनके पूर्वजों बिशनपुर गांव में एक टैंक की खुदाई के लिए आये थे। ऐतिहासिक रिकॉर्ड के मुताबिक, इस टैंक  को राजा अमोल सिंह की रानी बाई कदम कुंवर ने खुदवाया। समय लगभग 19 वीं शताब्दी के मध्य का था यह ज्ञात नहीं है कि उनके पूर्वजों के कुछ पहले आये थे। बिशनपुर से वे बोदर, कूदेली, अंगाओं,कसरा और अन्य क्षेत्रों के लिए चले गये ।

 

 

Back

 

 

मुस्लिम परिवार

 

बिहार और उत्तर प्रदेश से मुस्लिम परिवारों जिले में आ कर  बस गये । वे राज्य में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया। वे  राजा परिवार के साथ  नजदीकी रूप से जुड़े हुए थे।

 

 

गड़रिया

 

उनमें से अधिकांशतः 20 वीं सदी के प्रारंभिक समय में सिंगरौली से आया थे।

 

 

कोईर

 

वे सिंगरौली से 19 वीं सदी के अंतिम दशक और 20 वीं सदी के पहले दशक के दौरान आये। उनके प्रारम्भिक  ज्यादातर बस्तियों पटना जमींदारी में  थी

 

 

Back

 

बारगाह

 

ये ज्यादातर 10 वीं सदी के मध्य के दौरान सिंगरौली और सरगुजा ज़िलो से आए।

 

 

बसोद

 

वे  सिंगरौली  से आये और बाँस के समान बनाते थे

 

कहार

 

उनके पूर्वज 19 वीं सदी के अंत और 20 वीं सदी की शुरुआत के दौरान सिंगरौली की राजधानी गहरवार गाँव से आये। वे बैकुंठपुर में बस गए। अधिकतर लोग राज परिवारो के लिए काम किया करते थे। इसके बाद कुछ बैकुंठपुर छोड़ दिया और अन्य गांवों में बस गए।

 

 

केवट

 

वे 19 वीं सदी और 20 वीं सदी की शुरुआत के अंतिम दशक में कहारो के साथ गहरवार गाँव से आये थे। 

 

Back

 

जायसवाल

 

जायसवाल इलाहाबाद, वाराणसी और मिर्जापुर के अहरोरा क्षेत्र से आये थे। उनका प्रारम्भिक  प्रवास संभवतः 19 वीं सदी के अस्सी के दशक में कुछ समय था। उनका मूल निवास स्थल पोंडी, हेररा नागपुर, बैकुंठपुर, भाड़ी, बैसवार आदि में था।

 

 

गुप्ता

 

गुप्ता अधिकांश बांदा (उत्तर प्रदेश) से आए। उनके आरंभिक निवास  1908 में बैकुंठपुर में था।कुछ मनेन्द्रगढ़ मे बस गए । 

 

अग्रवाल

 

बीकानेर और राजस्थान के अन्य शहरों से कुछ अग्रवाल परिवारों रेलवे लाइन के निर्माण के समय में मनेन्द्रगढ़ में बस गए। कुछ अग्रवाल परिवारों सतना और रीवा से  और कुछ हरियाणा राज्य से आकर मनेन्द्रगढ़ में बस गए। कोरिया ज़िले का मनेन्द्रगढ़ एक व्यावसायिक केंद्र के रूप में विकसित होने का  ये एक कारण है। 

 

Back

 

जैन

 

करीमती में कुछ जैन परिवार, जो बाद में मनेन्द्रगढ़ के नाम से जाने गये। मनेन्द्रगढ़ से कुछ चिरमिरी चले गए । वे सागर और दमोह से आये थे।

 

अनुसूचित जाति

 

अनुसूचित जाति के परिवारों में से अधिकांश सिंगरौली और वैधान से यहाँ आये। उनके  प्रारम्भिक पलायन संभवतः19 वीं सदी के आठ दशक में था। उनका  प्रारम्भिक निवास सोनहत के पास था।

 

.कुनबी

 

कुछ कुंबी परिवारों सिंगरौली से आये और 19 वीं सदी के दौरान के ज़िले के कुछ हिस्से  में बस गए।

 

Back

 

शिकार करना

 

भुइयार(जिसे पंडो नाम से जाना जाता है)गोंड और चेरवास परंपरागत शिकारी थे। वे धनुष और तीर का इस्तेमाल करते थे। कुछ तीर में जहर हुआ करते थे। जहर को तीर के निचले हिस्से में लगाया जाता था।अच्छे निशानेबाज़ चयनित स्थानों पर बैठते थ।दूसरो लोग जानवरों को हाक कर भगाते थे और जब जानवर बीस गज की दूरी के भीतर आते थे तब निशानेबाज़ उनपर तीर छोड़ते थे।धनुष के दो सिरों को जोड़ने के लिए एक पतली पट्टी बांस से बनाया जाता था। यह दूसरी और तीसरी उंगली द्वारा खींचा जाता था,एकलव्य (महाभारत के एक पात्र) अपने अंगूठे को खो दिया था जिसे गुरु द्रोणाचार्य ने गुरु दक्षिणा के रूप में अंगूठे की मांग की थी,इसलिए कभी उसके बाद से आदिवासी समुदाय ने अंगूठे की मदद से धनुष नहीं खीचते है। खरगोश का शिकार छोटे क्षेत्रों में किया जाता था। क्षेत्र के तीन पक्षों को पेड़ों की छोटी शाखाओं द्वारा बांधा जाता था। खरगोश को खुला पक्ष के माध्यम से अन्दर की ओर भेज कर उसके मरने तक मारा जाता था। शिकार का एक विशेष तरीका संगीत ध्वनियों के उपयोग के द्वारा भी अभ्यास किया जाता था। झुमका का उपयोग संगीतमय ध्वनि बनाने के लिए किया जाता था।यह एक लोहे की छड होती है जिसपर बहुत सारे छले के साथ घुंगरू और अंगूठ लगे होते है।

रात में लोगों के एक समूह पार्टी का गठन करके जंगल की ओर जाया करते थे जहां उन्हें हिरण और खरगोश मिल सकते थे। मशाल की जगह में, वे एक छोटा सा घड़ा रखते थे जिसके केंद्र में तीन इंच का परिपत्र छेद हुआ करता था। घड़े में जलती बांस की लाठी रखी जाती थी,लौ एक प्रकाश फैलता था जो घड़े के छेद के माध्यम से पेश होता था। यह एक मशाल की तरह काम करता था। एक व्यक्ति झुमका बजता था, संगीत खरगोश और हिरण को आकर्षित थे। वे पास आते थे औरे संगीत से सम्मोहित हो जाया करते थे। जब ये पहुँच में आ जाते थे तब पार्टी से एक या दो व्यक्ति सामने आके उनको छड़ी से मारते थे। यह कहा जाता है कुछ समय चीता और बाघ भी संगीत से आकर्षित हो जाते थे। ऐसे समय झुमका संगीत को धीरे करके जंगल से बाहर चले जाते थे।

जंगली तीतर एक शिक्षित तीतर की मदद से पकड़े जाते थे। शिक्षित तीतर को पेड़ के पास एक पिंजरे में रखा जाता था। एक जाल से पिंजरे को घेरा जाता है। शिक्षित तीतर के मालिक पेड़ के शीर्ष पर बैठे थे। तीतर को बसेरा करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता था जब मालिक सीटी बजाना शुरू करते थे। जैसे ही तीतर बसेरा शुरु करता था जंगली तीतर पास के झाड़ियो से जहाँ बसेरा की ध्वनि आ रही होती थी उस ओर आ जात थे। तब वे जाल में फस जाते थे,कुछ समय आठ से नौ तीतर एक समय में पकडे जाते थे। शिक्षित तीतर कुतनी नाम से भी जाना जाता था।

कुछ समुदायों बांस की लाठी से बनी चमक के साथ रात में नदियों के पास जाते थे। चमक के प्रकाश से मछली आकर्षित होके सतह तक आ जाते थे और उसके बाद ग्रामीणों मछली मारने के लिए एक तीन आयामी भाला इस्तेमाल करते थे। उथले धाराओं में धनुष और तीर का इस्तेमाल किया जाता था जब मछली सतह पर आ जाते थे।

पेड़ पर बैठे पक्षी लासा के द्वारा पकड़े जाते थे। चिपचिपा दूधिया रस महुआ, बार और पीपल का मिला कर एक छोटे से बांस कंटेनर में रखा जाता था। 18 इंच लम्बी और बहुत पतली बांस की छड़ी को दूधिया तरल में डूबा कर पेड़ की शाखाओं पर रखा जाता था जहाँ पक्षी बैठते थे जब पक्षी शाखाओं पर बैठते थे चिपचिपा दुधिया तरल पक्षी के पंखो में स्थानांतरित हो जाता था छड़ी पक्षी के पंखो से चिपक जाते थे। वे उड़ान भरने में असमर्थ होके गिर जाते थे। हरा कबूतर, जंगली पीन कबूतर, जंगली कबूतर, कबूतर, मैना, तोता आदि सब इस तरह से नीचे गिराए जाते थे।

पंछियों को मरने के लिए तीर और धनुष तकनीक से रात को अभ्यास किया जाता था। ग्रामीणों पक्षियों को देख कर जब वे रात में पेड़ों में बसेरा के लिए आते थे। रात में, वे पेड़ के नीचे सूखे बांस की लाठी का एक बंडल जला देते थे। आग की रोशनी उन्हें पक्षी का पता लगाने के लिए पर्याप्त रौशनी दे देती थी। धनुष और तीर के साथ गोली मार दी जाती थी। तीर में एक भी धातु का टुकड़ा नहीं रहता था। इसके अंत में एक छोटे लकड़ी का टुकड़ा रहता था। पक्षी को इस तरह के तीर से मारा जाता था। तीर के अंत में लकड़ी के टुकड़े को ठेपा के रूप में जाना जाता है।

जंगली सुअरों को खरीफ के मौसम के दौरान मार दिए जाता था जब वे गांव के लिए आते थे। तीन फुट चौड़ा और छह फुट लम्बी गहरी खाइयों को खोदा जाता था और ग्रामीण सूअरों के झुण्ड को खाई के दिशा कर गिरा दिया जाता था और भाले से मार दिया जाता था। सांभर हिरन गांव वालों के लिए एक आसान शिकार था। वे कुत्तों की मदद से इसका पीछा किया करते थे।

जहर को तीर पर इस्तेमाल किया जाता था उस समय शिकारी को जानवर का मांस खाने में सावधान रहना रहता था। तीर के आसपास के मांस को दूर फेंक दिया जाता था। कुछ मामलों में वहाँ हताहत हो जाते थे जब वे जहर वाले तीर द्वारा मारे गए जानवरों का मांस ले लिया करते थे।

Top

 

 

Disclaimer
Contents provided and maintained by District Administration
Site Designed and Hosted by NATIONAL INFORMATICS CENTER (NIC) KOREA Chhattisgarh

mail at-: korea.cg@nic.in