इतिहास

कोरिया ज़िले का इतिहास

1600 से पहले कोरिया का इतिहास अस्पष्ट है। डाल्टन के अनुसार, बलेंद कोरिया के मूल शासक थे। बलेंद राजा की राजधानी सीधी में थी। (उनके वंशजों सीधी जिले के मदवास मे रह रहे है)। इनके महत्वपूर्ण पारंपरिक कार्यो के ध्वंसावशेष उनके बारे मे बताते है। सरगुजा ज़िले के भैयाथान ब्लॉक मे कूदेरगढ़ मे स्थित देवी महामाया का मंदिर उनके द्वारा बनाया गया था। सोनहत के पास मेन्द्रा गाँव की उत्तर पहाड़ बलेंद पहाड के नाम से जाना जाता है।

डाल्टन के अनुसार, कोल राजा और गोंड ज़मीनदारों की एक संयुक्त सैन्य बल ने बलेंद शासको को कोरिया से खदेर दिया था। कोल कोंच , कोल के रूप में जाने जाते थे और ग्यारह पीढ़ियों तक शासन किया है, कहा जाता है। एक राय यह है कि वे कोरियागढ़ उनकी राजधानी थी। वहाँ कोरियागढ़ के शीर्ष पर एक पठार है और वहाँ कुछ खंडहर देख सकते हैं। वहाँ खंडहर के निकट एक बौली है। अन्य का मानना है कि कोल राजा की राजधानी गाँव बचरा मे थी जो की पोडी के नजदीक है और उस समय राजा कोरियागढ़ में अपनी राजधानी निर्माण कर रहे थे बचरा गांव में एक मिट्टी का टीला है और ग्रामीणों का कहना है कि यह कोल राजा का निवास स्थल था। यह भी संभव है कि कोरिया के दक्षिणी भाग मे कोल राजा का और उत्तरी भाग पर बलेंद राजा शासन था।

17 वीं सदी में, मैनपुरी, अग्निकुल चौहान राजा के दो चचेरे भाई दलथंबन साही और धारामल साही जगन्नाथ पुरी से तीर्थ यात्रा के बाद लौट रहे थेवे उन लोगों के साथ एक छोटे से बल था। मैनपुरी का मार्ग वाराणसी, मिर्जापुर, सीधी, सरगुजा, छोटानागपुर और संबलपुर से हो कर जाता था। अपनी वापसी के दौरान वे सरगुजा की राजधानी विश्रामपुर मे रुके थे इसके बाद इसे अंबिकापुर नाम दिया गया है। उन्होंने जोडा तालाब के निकट अपना डेरा डाला था जो आज भी वहाँ मौजूद है । उस समय सरगुजा के महाराजा राजधानी से दूर गए हुये थे और राज्य के कुछ बागी सरदार महल को घेर लिया था। रानी को जब ये पता चला है कि चौहान भाइयों ने जोडा तालाब के पास ठहरे है। रानी ने पारंपरिक राखी उन्हे भेज दिया। दलथंबन साही और धारामाल साही उसके बचाव के लिए आये था और बागी सरदारों खदेर दिया। उनके सैन्य बल का एक प्रमुख हिस्सा मुठभेड़ में मारे गए। कुछ समय के बाद महाराजा लौट आए। उन्होंने चौहान भाईयो को रानी को बचाने के लिए धन्यवाद किया और उन्हें राज्य के पूर्वी हिस्से के क्षेत्र की जागीरदारी की पेशकश की जो झिलमिली के नाम से जाना जाता है यह बड़े भाई दलथंबन साही द्वारा स्वीकार कर लिया गया। झिलमिली क्षेत्र का एक हिस्सा बलेंद राजाओं के नियंत्रण में था।

चौहान भाइयों ने रहर नदी के पास कसकेला गांव में बस गए। वे इस क्षेत्र और आस पास के क्षेत्र से बलेंद की सैन्य बल को खदेर दिया। पकरियस जो हमेशा ही सरगुजा राज्य के खिलाफ विद्रोही रहे । वे सरगुजा राज्य को वार्षिक कर दिया करते थे। भैया का खिताब महाराजा अमर सिंह द्वारा परिवार के नाम पर किया गया। चूंकि भाइयों को राखी बांधने के बाद से, वे रानी के भाई बन गया थे, इसलिए वो क्षेत्र भैयास्थान के नाम से जाना जाता है। (सरगुजा जिले के ब्लॉक में से एक)। कुछ समय के लिए छोटे भाई धारामाल साही केशकेला में अपने भाई के साथ रहा और फिर उसने अपना अलग राज्य बनाने के फैसला किया। उसने अपनी सैन्य शक्ति एकत्र किया और सरगुजा राज्य की सीमा से लगे कोरिया राज्य जहां पर कोल राजा का शासन था के पश्चिम की ओर चले गए। वे कोरियागढ़ के आस-पास क्षेत्र जो चिरमिके रूप में जाना जाता था के गांव में ठहरे। उसने कोल राजा पर हमला किया और लड़ाई में उसे परास्त कर दिया और कोरिया के राज्य पर कब्जा कर लिया। वे कुछ समय के लिए वे चिरमी पर रुके थे और उसके बाद नगर गांव है, जिसे उन्होने अपनी राजधानी बनाया ।

जैसा कि पहले कहा गया है कि, राज्य के उत्तरी भाग सीधी के राजा बलेंद के अधीन था। धारामल साही या उसके वंशजो ने कोरिया राज्य के उत्तरी क्षेत्र से बलेंद को खदेर दिया। धारामल साही के तीन बेटे देवराज साही, अधोराय देव और रघोराय देव था। धारामल साही मृत्यु के पश्चात, परंपरा के अनुसार सबसे बड़े पुत्र देवराज साही गद्दी पर बैठा। वह निस्संतान था और उसका छोटे भाई का बेटा नरसिंह देव उसका उत्तराधिकारी बना। उसके बाद उसका बेटा राजा जीत राय देव सत्ता संभाल मे सफल हो गया था। उसके बाद उसका बेटा राजा सागर साही देव उत्तराधिकारी बना। उनकी मृत्यु पर, उनके बेटे राजा अफहर साही देव गद्दी चढ़ा। उसके बाद उसका पुत्र राजा जहान साही देव गद्दी पर बैठा रहा। उसके बाद उसका बेटा राजा सावल साही देव बना। उनकी मृत्यु पर उनका बेटा राजा गजराज सिंह देव राजा बना। वह निस्संतान था और उसने अपने भतीजे राजा गरीब सिंह उत्तराधिकारी बनाया जो लाल दिलीप सिंह देव का बेटा था । राजा गरीब सिंह के छोटे भाई लाल मानसिंह को एक जागीर, दिया गया जो चंगभकर था। वह चंगभकर का जगीरदार बना जिसकी राजधानी भरतपुर था। राजा गरीब सिंह नगर में 1745 में पैदा हुये थे सन 1765 मे नागपुर के भोसले की फौजों ने नगर पर हमला किया और चौथ का भुगतान करने के लिए राजा के गरीब सिंह को मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा कि कुछ समय के लिए चौथ का भुगतान किया और फिर बाद भुगतान बंद कर दिया। उसने अपनी राजधानी रजौरी मे प्रतिस्थापित कर दिया और फिर बाद मे सोनहत । राजधानी को बाद मे मराठा हमलों के डर से अंदरूनी क्षेत्र मे ले जाया गया ।

1797 में मराठो ने ,सूबेदार गुलाब खान के नेतृत्व मे सोनहत पर हमला कर दिया और चौथ का भुगतान करने के लिए राजा के गरीब सिंह को मजबूर कर दिया। गुलाब खान मराठा सूबेदार था जो रतनपुर (बिलासपुर जिला) में तैनात था। वे फौजी सिपाही की बंदूक के साथ 200 पैदल सैनिकों और 30 अश्वारोही साथ आ धमका था। सरगुजा के महाराजा ने भी जो 80 अश्वारोही और पैदल सैनिकों भेजा करउनकी सहायता की थी। वे ग्रामीण इलाकों को तबाह कर दिया। पटना जमींदार की फौजों ने लतमा गांव में उनकी वापसी के समय उन पर हमला कर दिया। मराठों सरगुजा राज्य में जल्दबाजी में वापसी मे हारे। पटना जमींदार अभी भी दस तलवार और युद्ध ड्रम को मुठभेड़ में कब्जा कर लिया। ईस्ट इंडिया कंपनी ने नागपुर के मोद जी भोसले की हार के बाद, छत्तीसगढ़ राज्यों को ईस्ट इंडिया कंपनी के आधिपत्य में कर लिया। गरीब सिंह द्वारा 24 दिसंबर 1819 को कबूलियत क्रियान्वयन मे यह सहमति हुयी कि कोरिया राज्य वार्षिक कर 400 रुपये कि भेट अर्पित करेगा। चंदभाकर कोरिया के एक सामंती निर्भरता के रूप में था और Rs.386 के लिए एक श्रद्धांजलि ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए किया । कर कोरिया राज्य के माध्यम से भुगतान किया जा रहा था। राजा गरीब सिंह के बाद राजा अमोल सिंह (जन्म 1785) जून 1828 को पद पर बैठे। वे 1848 में ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे जिसमे कर की राशि यथावत बनी रहे। बाद मे 1848 चंदभाकर इस कर को सीधे भुगतान करना शुरू किया। राजा अमोल सिंह एक कमजोर राजा थे, राज्य वस्तुतः उनकी पत्नी रानी कदम कुंवर द्वारा शासन किया गया था। अमोल सिंह की मृत्यु के बाद (1864) उसका बेटा राजा प्राण सिंह (जन्मे 1857) राजा बने ।

राजा प्राण सिंह देव निस्संतान थे। उनकी मृत्यु के बाद (1897) राजा शिवोमंगल सिंह देव (सन 1874 मे जन्मे, लाल रघो राय देव के उत्तराधिकारी, राजा धारामाल साही के तीसरे बेटे ) सन 1899 राजा बने । शिवोमंगल सिंह देव राजा वर्ष 1900 मे अपनी राजधानी सोनहत से बैकुंठपुर स्थानांतरित कर दिया ।उस समय बैकुंठपुर केन्द्र मे स्थित था और इस राज्य को बैकुंठपुर से बेहतर प्रशासित किया जा सकता है। उसने नए महल के पास दो टैंक और एक मंदिर का निर्माण किया। उनकी मृत्यु (18 नवंबर 1909) के बाद, उनके सबसे बड़े पुत्र राजा रामानुज प्रताप सिंग देव (जन्म 1901) 18 नवंबर 1909 को राजा बने । वे नाबालिग थे इसलिए कोरिया राज्य के अधीक्षक गोरे लाल पाठक के देख रेख मे रखा गया था। यह 1916 तक चला । पंडित गंगादीन पद भार उनसे लेकर 1918 तक रहे । इसके बाद रघुवीर प्रताप वर्मा द्वारा शासन किया गया । अंत में, जनवरी 1925 में, राजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने अपनी पूरा सत्तारूढ़ शक्तियों के साथ संपूर्ण सत्ता पर शासन किया और कोरिया राज्य का स्वतंत्र भारत मे सम्मिलित होने तक शासन किया । राजा रामानुज प्रताप सिंह देव एक सख्त प्रशासक था और उनका प्रशासन भ्रष्टाचार से मुक्त था। वे 1931 में लंदन में आयोजित दूसरे गोलमेज सम्मेलन में सत्तारूढ़ मुख्य शासक का प्रतिनिधित्व किया ।वे असाधारण रूपसे ईमानदार और सरल थे। वह हमेशा खुद को राज्य का संरक्षक माना और ईमानदारी और कुशलता के साथ यह शासन किया। 1925 जब वो गद्दी पर बैठे कोरिया राज्य की आय 2.25 लाख से बढ़कर 1947-1948 में 44 लाख हो गयी जब राज्य मध्य प्रांत और बरार के साथ विलय कर दिया गया था तब आरक्षित रुपये एक करोड़ रुपये तक हो गया था। इस अवधि में बहुत सारे काम किए थे। 1928 में, बिजुरी का निर्माण - चिरमिरी रेलवे लाइन का काम शुरू किया और 1931 पर पूरा कियागया। 1928 चिरमिरी कोलरी बंसी लाल अबीरचंद द्वारा खोला गया । 1928 में खुरसिया कॉलेरी शुरू कर दिया है। 1929 में, झगराखंड कॉलेरी खोला गया। 1930 में मनेन्द्रगढ़ के लिए रेलवे संचार शुरू कर दिया । सन् 1935 में रामानुज हाई स्कूल खोला गया। 15 दिसंबर 1947 को राजा रामानुज प्रतापसिंह देव ने राज्य को मध्य प्रांत और बरार मे विलय के समझौते पर हस्ताक्षर किया और अंत में 1 जनवरी 1948 राज्य को मध्य प्रांत और बरार के साथ विलय कर दिया