जैन आदि

करीमती में कुछ जैन परिवार, जो बाद में मनेन्द्रगढ़ के नाम से जाने गये। मनेन्द्रगढ़ से कुछ चिरमिरी चले गए । वे सागर और दमोह से आये थे।