केवट

वे 19 वीं सदी और 20 वीं सदी की शुरुआत के अंतिम दशक में कहारो के साथ गहरवार गाँव से आये थे।