सैला नृत्य

        अगहन के महीने में, ग्रामीणों सैला नृत्य प्रदर्शन करने के लिए आसपास के गांवों के लिए जाते है। डाल्टन के अनुसार, यह द्रविड़ समुदाय का एक नृत्य है। सैला नर्तकियों के समूह , सैला नर्तकियों के मेढा प्रत्येक घर के लिये जाते है और नृत्य करते है। वे अपने हाथ मे लिये छोटी छड़ी से बगल मे व्यक्ति के पकड़े हुये छड़ी को मारते है वे एक बार गोले मे दक्षिणावर्त और बाद मे वामावर्त धूमते हुये नृत्य करते है । "मंदार" नर्तकियों को ताल देता है। जब ताल तेजी से हो जाता है, तब नर्तक भी तेजी से चलते हुये नृत्य करते हैं।छड़ी ऊपर जाते हुये दूसरे छड़ी से और फिर नीचे जाते हुये दूसरे छड़ी से टकराया जाता है।